E-commerce क्या है? बीते कुछ सालों में, Science और Technology के विकास के कारण हमारी आदतों में भारी बदलाव आया है। पहले, जब हमें कुछ खरीदना होता था तो हमें किसी दुकान पर जाकर सामान चुनना पड़ता था फिर खरीदकर लाना पड़ता था। आज, हम इंटरनेट के माध्यम से अधिकांश आवश्यक सामान खरीद सकते हैं। आपने शायद पहले भी E-commerce के बारे में सुना होगा। E-commerce का नाम सुनते ही आपके मन में ये सवाल उठता होगा की e-commerce kya hai, यह कितने प्रकार का होता है, e-commerce के क्या क्या लाभ है आदि।

आपने Amazon, Flipkart, OLX आदि कंपनियों के बारे में सुना होगा या आपने इनसे कोई सामान ऑर्डर किया होगा और मंगाया होगा। ये सभी E-commerce कंपनियां के उदाहरण हैं। आप इन कंपनियों के माध्यम से अपने सामान को ऑनलाइन बेच भी सकते हैं।

आज इस पोस्ट में हम बताने वाले हैं, ई-कॉमर्स क्या है?, इस पोस्ट में आपके E-commerce से जुड़े सारे Doubt clear हो जाएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं।

ई-कॉमर्स क्या है? (What is E-commerce in Hindi)

E-commerce या Electronic Commerce वह Business है जो इंटरनेट का उपयोग करके होता है। ई-कॉमर्स (e-commerce) एक आधुनिक business system है। सभी ऑनलाइन व्यावसायिक गतिविधियाँ e commerce की मदद से आयोजित की जाती हैं। इंटरनेट का उपयोग करते हुए, ग्राहक वेबसाइट के माध्यम से Products का order दे सकता है वैसे ही वह किसी भी product की quality, कीमत देख सकता है। credit card और debit card का उपयोग ई-कॉमर्स लेनदेन में किया जाता है। उदाहरण के लिए मान लीजिए कि आप Amazon.in से कोई सामान ऑर्डर करते हैं तो आप उसी वक्त उस सामान के मूल्य को अपने क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से online Pay कर सकते हैं। हम कह सकते हैं कि Online Shopping करना ही E-commerce कहलाता है।

एक आसान उदाहरण उत्पादों को ऑनलाइन बेचना है। वास्तव में, ई-कॉमर्स किसी भी व्यवसाय को ऑनलाइन संचालित करने का तरीका है

ऑनलाइन बिकने वाले सामान E-commerce products का एक उदाहरण है। विक्रेता यहां खुदरा विक्रेताओं को online products या services का Advertising करते हैं। दुकानदार इसे देखते हैं और इसे एक single क्लिक से खरीद सकते हैं। ऐसी ही Amazon.in, Flipkart.com, Snapdeal, Myntra सहित कई E-commerce websites हैं, जहां products या services ऑनलाइन बेची जाती है।

जब आप ऑनलाइन कुछ खरीदते हैं, तो आपके पास ऑनलाइन भुगतान करने का भी विकल्प होता है। ऑनलाइन के अलावा कई वेबसाइट Cash on delivery का भी विकल्प प्रदान करते हैं, ऑनलाइन भुगतान करने के बाद आपके द्वारा ऑर्डर किया गया सामान घर तक पहुंच जाता है।

ई-कॉमर्स के प्रकार (Types of E-commerce in Hindi)

लेनदेन के दो पक्षों की प्रकृति के आधार पर, ई-कॉमर्स को चार श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है:

  • Business to cunsumer (B2C)
  • Business to Business (B2B)
  • Consumer to Business (C2B)
  • Consumer to Consumer (C2C)

Business to Consumer (B2C): जब व्यापारी ग्राहकों या consumer को products बेचने के लिए ऑनलाइन उतरते हैं, तो इसे business to consumer (B2C) कहा जाता है। इसमें Consumer किसी business organization या निर्माता से सीधे product खरीदता है। Internet का उपयोग करके, कोई होटल पहले से ही में बुक किया जा सकता है जो इस लेनदेन द्वारा कवर किया जाता है। उदाहरण: wallmart.com, Amazon.in, Flipkart.com etc.

Business to Business (B2B): Business to Business (B2B) वह क्षेत्र है जहां व्यापार कई व्यावसायिक संगठनों में किया जाता है। इस मामले में, दो ट्रेडिंग कंपनियां उनके बीच थोक सामान बेचती हैं। अर्थात्, customer को product की बिक्री से पहले किया जाने वाला व्यवसाय Business to Business E-commerce है। उदाहरण: e-steel.com ऐसी ही एक वेबसाइट है।

Consumer to Business (C2B): Consumer to Business E-commerce C2B के रूप में जाना जाता है। ई-कॉमर्स जिसमें व्यापारियों को सीधे उपभोक्ताओं से माल प्राप्त होता है, C2B कहलाता है। उदाहरण: www.priceline.com ऐसी ही एक वेबसाइट है।

Consumer to Consumer (C2C): वैश्विक आर्थिक प्रणाली में, एक customer स्वयं एक विक्रेता बन जाता है और अपने उत्पाद या सेवा को किसी अन्य उपभोक्ता को बेचने की कोशिश करता है। इसे Consumer to Consumer (C2C) कहा जाता है। इस मामले में व्यवसाय को उपभोक्ता द्वारा ही निष्पादित किया जाता है। एक product सीधे दूसरे customer द्वारा खरीदा जाता है। उदाहरण: bikroy.com एक ऐसी साइट है, जहाँ एक customer अपने product को दूसरे customer को बेचता है।

E-commerce की विशेषताएं

E-commerce तकनीक सात विशेषताओं पर आधारित है, जो निम्नलिखित हैं:

  • Ubiquity (सर्वव्यापकता)
  • Global reach
  • Prosperity (समृद्धि)
  • Interaction
  • Information density
  • Personalization

Ubiquity (सर्वव्यापकता): पारंपरिक व्यापार बाजार एक विशिष्ट स्थान है जहां माल बेचा जाता है। लेकिन e-commerce को एक विशिष्ट स्थान की आवश्यकता नहीं है, यह सर्वव्यापी है, यह हमेशा सभी के लिए उपलब्ध है। इसे मोबाइल या लैपटॉप या किसी अन्य डिवाइस पर इंटरनेट कनेक्शन के साथ कहीं भी बेचा जा सकता है। ई-कॉमर्स एक विशिष्ट सीमा द्वारा Regulated नहीं है।

Global reach: ई-कॉमर्स में, पारंपरिक व्यवसाय की तरह कोई विशिष्ट रेखा या स्थान नहीं है। दुनिया में कोई भी इस व्यवसाय से जुड़ सकता है, इंटरनेट का उपयोग करके उत्पादों को खरीद या बेच सकता है। वास्तव में, दुनिया भर में जितने लोग इंटरनेट का उपयोग करते हैं, उन्हें E-commerce marketer माना जा सकता है।

Prosperity (समृद्धि): E-commerce Business Product Advertising का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यहां picture, video, Animation के उपयोग के माध्यम से किसी product की internet, website ads की मदद से प्रचार प्रसार किया जा सकता है।

Interaction: E-commerce technology इंटरेक्शन टेक्नोलॉजी है। क्योंकि यह दोतरफा संचार को secure रखता है। दूसरी ओर, Advance technology, उदाहरण के लिए, टेलीविजन के साथ केवल एकतरफा communication संभव है। लेकिन e-commerce तकनीक में यह संभव है।

Information density: e-commerce लोगों के बीच इंटरनेट या web information की मात्रा बढ़ाता है । ये सभी जानकारी customer, विक्रेता या visitors को उपलब्ध होते हैं। e-commerce technology जानकारी एकत्र करने, स्टोर करने, संचार और प्रसंस्करण की लागत को कम करती है। नतीजतन, ये data अधिक स्वीकार्य और अधिक गुणात्मक होते हैं।

Personalization: E-commerce technology के लोग भेद कर सकते हैं। अर्थात्, एक seller किसी भी समय अपने product को किसी विशेष व्यक्ति के लिए खुला रख सकता है। वैकल्पिक रूप से, एक विक्रेता यदि चाहें तो इससे छिपा सकता है। नतीजतन, जानकारी की मात्रा और अनावश्यक खरीदारों या विक्रेताओं की मात्रा को यहां आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है।

E-commerce के लाभ (Benefits of E-commerce in Hindi)

  • E-commerce एक संगठन को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में प्रकाशित करने में मदद करता है।
  • E-commerce product खरीदने/बेचने के लिए आसान फास्ट विधि है।
  • Businesse संचालित करने में लागत कम लगता है।
  • Physical problems से परे, सामान customer तक पहुंचना आसान है।
  • Commercial transaction की लागत कम हो जाती है।
  • E-commerce विभिन्न प्रकार के लागतें; उदाहरण के लिए, product तैयार करना, sell करना, स्टोर करना आदि गतिविधियों की लागत को बहुत कम कर देता है।
  • Customer और seller के बीच आसानी से बातचीत किया जा सकता है।
  • E-commerce ने व्यापारिक लागतों को कम करने के साथ-साथ खरीदारों के लिए खरीद लागत को कम किया है और खरीद की गति को उत्तेजित किया है।
  • E-commerce खरीदारी और व्यापार के लिए काम का समय बचा रहा है।
  • E-commerce वस्तुओं को customer तक बहुत जल्दी पहुंचता है ।
  • E-commerce के व्यवसाय आसानी से वेबसाइट के माध्यम से एक-दूसरे के business rules, service और मूल्य निर्धारण के बारे में पता लगा सकते हैं। नतीजतन, व्यवसायों के बीच competition बढ़ जाती है।
  • E-commerce बाजार में रोजगार के नए अवसर पैदा कर रहा है; उदाहरण के लिए, multimedia developers, database designer, programmers, आदि कई नौकरी के अवसर पैदा कर रहे हैं।
  • E-commerce, Short term market verification प्रदान करता है और तत्काल ऑर्डर डिलीवरी की सुविधा प्रदान करता है।

E-commerce के नुकसान (Dis-Advantage of E-commerce in Hindi)

  • Security का अभाव है, लापरवाही के कारण आपका खाता हैक हो सकता है।
  • ई-कॉमर्स पूरी तरह से इंटरनेट कनेक्शन पर निर्भर है।
  • ई-कॉमर्स पोर्टल का एक बड़ा नुकसान यह है कि ग्राहक अपनी संतुष्टि के लिए products का test करने में असमर्थ है।
  • Late delivery ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के सामान्य नुकसानों में से एक है।
  • कुछ उत्पादों को ऑनलाइन खरीदना मुश्किल है।
  • Privacy की कमी, एक ग्राहक को पता, नाम, और फोन नंबर जैसी खरीदारी करने से पहले अपने व्यक्तिगत विवरण प्रदान करने होंगे।
  • E-commerce लेन-देन ज्यादातर बिना किसी निर्धारित प्रमाण के faceless और paperless होते हैं।
  • Customer या seller कई महीनों तक E-commerce पर भरोसा नहीं कर सकते हैं।
  • यह खुदरा व्यापारियों के व्यापार को बहुत हद तक प्रभावित करता है।
  • यह अप्रत्क्ष्य रूप से भेदभाव करके किसी भी कंपनी या उत्पाद को प्रभावित कर सकता है।

यह भी पढ़ें:-

E-commerce in Hindi:

आज इस पोस्ट में आपने सीखा E-commerce क्या है? और यह कैसे काम करता है(What is E-commerce in Hindi). अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले। अगर आपको E-commerce से जुड़ा कोई भी सवाल पूछना हो तो हमे नीचे comment करके बताएं।

जय हिन्द जय भारत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here