निर्मला सीतारमण का जीवन परिचय: आजादी के बाद से हमारा देश भारत दिन प्रतिदिन नयी उचाईयों को छुता जा रहा है। इसी कड़ी में 3 सितम्बर 2017 को भारतीय राजनीति ने एक और नए आयाम को छु लिया है, जी हां हम बात कर रहे है स्वतंत्र भारत की पहली महिला रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की।

इसके पूर्व भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने 1 से लेकर 21 दिसंबर 1975 एवं 1980-1982 तक रक्षा मंत्रालय अपने पास रखा था। लेकिन स्वतंत्र रूप से रक्षा मंत्रालय सँभालने वाली निर्मला सीतारमण भारत की पहली महिला रक्षा मंत्री बनी है।

निर्मला सीतारमण जी देश की पहली ऐसी महिला है जिनके नाम पर 2 बहुत बड़ी उपलब्धियां है। वह न सिर्फ देश की पहली रक्षामंत्री बनी बल्कि देश की पहली महिला वित्तमंत्री बनाने का भी गौरव उन्हें प्राप्त हुआ है।

निर्मला सीतारमण का जीवन परिचय : Biography in Hindi

निर्मला सीतारमण का जीवन परिचय : निर्मला सीतारमन का जन्म 18 अगस्त 1959 को तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली में हुआ था। इनके पिताजी का नाम नारायण सीतारमण और माताजी का नाम सावित्री देवी था। आपके पिताजी रेल विभाग में कार्यरत थे और आपकी माताजी गृहणी थी। पढ़ी लिखी फैमिली होने के कारण इनका भी झुकाव शिक्षा की ओर अधिक था।

निर्मला सीतारमण ने अपना अपना ग्रेजुएशन 1980 में सीतालक्ष्मी रामास्वामि कॉलेज, तिरुचिरापल्ली से किया। इसके बाद आपने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से अंतरराष्ट्रीय अध्ययन विषय में M.fil की शिक्षा पूर्ण की।

सन 1986 में डॉक्टर पराकाला प्रभाकर से आपकी शादी हुई और इसके बाद आप लन्दन शिफ्ट हो गयी। लन्दन में कॉर्पोरेट क्षेत्र में कई उपलब्धियां हासिल करने के आप 1991 में पुनः भारत वापस आ गयी।

भारत आने के बाद आपने शिक्षा के क्षेत्र में कई काम किये। निर्मला सीतारमण हैदराबाद में स्थित प्रणव स्कूल के संस्थापकों में से एक हैं। निर्मला सीतारमन प्राइसवॉटरहाउस कूपर्स के साथ वरिष्ठ प्रबंधक (शोध एवं विश्लेषण) के तौर पर भी कार्य कर चुकी हैं। उन्होंने कुछ समय के लिए बीबीसी विश्व सेवा के लिए भी कार्य किया।

निर्मला सीतारमण का जीवन परिचय
निर्मला सीतारमण का जीवन परिचय

राजनैतिक करियर की शुरुआत :

आरम्भ में निर्मला सीतारमन के पति एवं परिवार का झुकाव कांग्रेस की तरफ था। लेकिन इसके बावजूद उन्होंने साल 2008 में बीजेपी की सदस्यता ली। अपने राजनीतिक जीवन के शुरुआती दिनों में वे रविशंकर प्रसाद के नेतृत्व में बीजेपी की प्रवक्ता बनीं।

लंदन में हासिल की गई अपनी उपलब्धियों के दम पर पार्टी में लगातार सफलता की सीढ़ी चढ़ती चली गईं। निर्मला सीतारमन 2003 से 2005 तक राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्या रह चुकी हैं।

03 सितंबर 2017 को पहली भारतीय महिला रक्षामंत्री बनने से पूर्व तक भारतीय जनता पार्टी की प्रवक्ता के साथ-साथ भारत की वाणिज्य और उद्योग (स्वतंत्र प्रभार) तथा वित्त व कारपोरेट मामलों की राज्य मंत्री रहीं हैं।

अपने दमदार व्यक्तित्व और देश हित की बात को अडिगता के साथ रखने के कारण उनका प्रमोशन कर उन्हें रक्षा मंत्री का पद दिया गया।

इसके बाद वह 1 मई, 2019 को देश की पहली महिला वित्तमंत्री बनी। इस प्रकार वह देश की पहली ऐसी महिला बनी जो देश की पहली रक्षा मंत्री और देश की पहली महिला वित्तमंत्री बनी।

पहली बार आंध्र प्रदेश से राज्यसभा के लिए चुनी गयी :

2014 में भाजपा के सत्ता में आने के बाद आपको पहली बार आध्र प्रदेश से राज्यसभा भेजा. यह सीट टीडीपी के एन जनार्दन रेड्डी की मृत्यु के बाद खाली हुई थी. बीजेपी की सहयोगी होने के चलते टीडीपी ने यह सीट निर्मला सीतारमन को ऑफर की. वर्तमान में वे कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य हैं.

स्वतंत्र भारत की पहली महिला रक्षा मंत्री बनने के बाद उन्हें बधाई देने का सिलसिला चल रहा है. कोई इसे नारी शक्ति का प्रतीत बता रहा है तो कोई नारियों के उत्थान में एक और मील का पत्थर बता रहा है.

भारत की पहली महिला रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण का जीवन परिचय

भारत के पूर्व रक्षा मंत्री और वर्तमान में गोआ के मुख्यमंत्री श्री मनोहर परिकर ने बधाई देते हुए कहा

देश की अगली और पहली महिला रक्षामंत्री बनने पर सीतारमण जी को बधाई हो.

– मनोहर परिकर

सीतारमण पर गर्व है. वह अपने काम में माहिर है. उन्होंने हर क्षेत्र में मुकाम बनाया है. निर्मला सीतारमण को शुभकामनायें.

– किरण बेदी

यह एक उल्लेखनीय और महत्वपूर्ण बात है कि एक महिला को रक्षामंत्री के रूप में नियुक्त किया गया है. इस विस्तार के साथ अब सुरक्षा सम्बन्धी कैबिनेट कमिटी में अब दो महिला मंत्री शामिल हो गयी है.

– मनमोहन वैध्य, प्रवक्ता RSS

यह बहुत अच्छा हुआ कि विदेश और रक्षा मंत्रालय जैसे दो अहम् पोर्टफोलियो महिलाओं के जिम्मे है.

– निधि राजदान

पहली बार शीर्ष के तीन पद महिलाओं के पास है. सुमित्रा महाजन लोकसभा स्पीकर, शुष्मा विदेश मंत्री और अब सीतारमण रक्षा मंत्री. भारत के लिए यह अत्यंत गर्व का क्षण है.

– रतिकांत नायक

मजबूत, साहसी, इमानदार, परिश्रमी, बुद्धिमान, दक्ष, दुनियां सीतारमण की इन खूबियों से बाकिफ है और उनका सम्मान भी करती है.

– श्याम शेखर

वहीँ देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त करते हुए निर्म्माला सीतारमण ने कहा :

रक्षामंत्री की जिम्मेदारी देकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारतीय महिलाओं को एक बड़ा सन्देश दिया है कि वे बेहतर काम कर सकती है.

निर्मला सीतारमण के जीवन से सम्बंधित सामान्य प्रश्नोत्तरी:

निर्मला सीतारमण का जन्म कब हुआ था?

निर्मला सीतारमन का जन्म 18 अगस्त 1959 को तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली में हुआ था। आपकी पिताजी रेल विभाग में कार्यरत थे और आपकी माताजी गृहणी थी। पढ़ी लिखी फैमिली होने के कारण इनका भी झुकाव शिक्षा की ओर अधिक था।

निर्मला सीतारमण के माता पता का क्या नाम था?

निर्मला सीतारमण के पिताजी का नाम नारायण सीतारमण और माताजी का नाम सावित्री देवी था।

निर्मला सीतारमण के पति का क्या नाम है?

1986 में निर्मला सीतारमण का विवाह डॉक्टर पराकाला प्रभाकर से हुआ था।

सीतारमण जी देश की पहली रक्षा मंत्री कब बनी थी?

3 सितम्बर 2017 को निर्मला सीताराम जी देश की पहली रक्षा मंत्री बनी थी।

निर्मला सीतारमण जी देश की पहली वित्तमंत्री मंत्री कब बनी थी?

1 मई, 2019 को निर्मला सीतारमण जी देश की पहली महिला वित्तमंत्री बनी।

देश की पहली महिला रक्षा मंत्री का नाम बताइए?

देश की पहली महिला रक्षा मंत्री का नाम श्रीमती निर्मला सीतारमण है।

देश की पहली महिला वित्त मंत्री का नाम बताइए?

निर्मला सीतारमण देश की पहली महिला वित्त मंत्री बनी थी।

Previous articleNRE-NRO Account Kya hai – Deference between NRE NRO
Next articleवेब होस्टिंग क्या है? और वेबसाइट के लिए होस्टिंग कहाँ से खरीदें? 2022

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here